कहानियों के माध्यम से पाठकों को कुछ सिखाना चाहता हूं: आकाश वी शिवाच

पेशे से टेक्नोक्रैट आकाश वी शिवाच इन दिनों अपनी किताब ''स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड" को लेकर चर्चा में हैं। आकाश इससे पहले भी "मिरेकल: एन एक्सोटिक वंडर" किताब लिख चुके हैं, जिसे पाठकों से बहुत सराहना मिली थी। आकाश ने अपनी किताब ''स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड" और अपने जीवन के कुछ पहलुओं पर न्यूज़ स्टैंडर्ड ने विशेष बातचीत की। पेश है विशेष बातचीत के प्रमुख अंश-

Author Aakash V Sivach

हम आपको क्या कह सकते है – टेक्नोक्रैट या लेखक?

आप मुझे टेक्नोक्रैट या लेखक कुछ भी कह सकते हैं। लिखना मेरे लिए एक सुकून की तरह है, और जब मेरी कहानियां लोगों को पसंद आती है तब मुझे बेहद ख़ुशी होती है। कहने को, आप मुझे लेखक भी कहे सकते हैं क्योंकि में हर बार अपनी बातों में वो एहसास डालना चाहता हूं जो हर व्यक्ति को मदद करे। फिर चाहे ये मदद उसके रोजमरा के जीवन में हो या फिर उसे एक अच्छी दुनिया को दिखने के लिए हो। मेरी ये कोशिश लोगों के लिए कुछ कर पाती है तो इससे बड़ी उपलब्धि मेरे लिए और कुछ नहीं हो सकती।

इंजीनियर से लेखक बनने की शुरुआत कैसे हुई?

मैंने कहानियां तो अपने बचपन में ही बनना शुरू कर दी थी। कहानी में क्या एहसास होना चाहिए और उससे क्या सबक मिलना चाहिए, ये सब मुझे काफी पहले ही समझ आ गया था। मेरी छोटी-छोटी बातों और प्रेरणादायक कोट्स से प्रभावित होकर मेरे आस-पास के लोगों ने मुझे कहानियां लिखने को कहा। मुझे ऐसी अनुभूति हुई की यह बात मेरे दिल के बेहद करीब है। इस वाक्य के बाद मुझे लगा की मुझे अपने जज्बातों को कागजों पर लिखना चाहिए। फिर मैंने अपनी पहली किताब “मिरेकल: एन एक्सोटिक वंडर” लिखी। जिसमें वो हर प्रकार के अद्भुत दृश्यों का वर्णन है जो हर दिल को लुभाते हैं। उसी की तरह फिर मेरी दूसरी किताब “स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड” को लोगों ने सराहा और अपने प्यार उसे दिया।

अपनी किताब “स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड” के बारें में बताएं?

स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड एक ऐसी कहानी है जो इंसान के हर जज्बात को परिभाषित करती है। जहां एक तरफ इसमें अपना प्यार दुबारा पाने की कोशिश है, और दूसरी तरफ इसमें ज़िन्दगी से हार कर चलने की जिद है। इस कहानी में त्याग है, प्यार के लिए हार मुकाम से लड़ने का हौसला है, दो प्यार करने वालों की ये कहानी में सीख है। यह किताब पाठकों को कहानी के लुत्फ़ के साथ-साथ बहुत कुछ सिखाने में भी मदद करती है। कहानी में हर प्रस्थिति को बहुत ही अच्छे से दर्शाया गया है।

इस कहानी का ख्याल आपको कैसे आया और कब आपने यह तय किया की इसे किताब का रूप देना चाहिए?

मैंने सोचा की लोगों को पता चलना चाहिए की प्यार कभी नहीं मरता और सच्चा प्यार पाना मुमकिन है। इसी ख्याल ने मुझे स्टेप्स टेकिंग बैकवर्ड लिखने के लिए प्रेरित किया। इस कहानी के किरदार राघव को उसके हर बढ़ते हुए कदम उसे पुरानी याद और प्यार की तरफ खींचते हैं। राघव एक नामी गायक होने के बाद भी अपने पुराने प्यार की याद की वजह से अपना सारा काम भुला देता है। मैंने अपने भाव को शब्दों में पिरोने की पूरी कोशिश की है जो पाठकों को इस कहानी को पढ़ने के लिए आकर्षित करती है।

आपके पसंदीदा लेखक कौन हैं जिनसे आपको प्रेरणा मिलती है?

इस सवाल का जवाब देने बहुत कठिन है। क्योंकि मेरे मानना है कि हर लेखक अपनी लिखाई में अपना सर्वोच्च भाव डालने की कोशिश करता है। उसकी एक किताब ना जाने कितनी उमीदों और विचारों की जंग से निकलती है। मैं काफी लेखकों कि किताबों को पढता हूं, पर किसी का नाम लेकर उसे अच्छा या गलत बताना मुझे ठीक नहीं लगता। क्योंकि जो लेखक अपनी बात पुरे दिल से और सारे भावों से गुज़र कर कहता हैं, उस बात का दिल को छूना लाज़मी है।

आपके अनुसार एक युवा लेखक को अपने आप को स्थापित करने में क्या समस्याएं आती हैं?

मेरे अनुसार कुछ लोग अपनी किताबों में गलत चीजें इस्तेमाल करने लगते है इस गलत सोच के साथ की उन बातों को ज्यादा तवजों दी जाएगी, पर ऐसा नहीं है। एक लेखक को अपनी किताब में या लेख में प्रेरणा और सुहानी बातों का इस्तेमाल करना चाहिए। अच्छी कहानी हो सकता है कुछ समय बाद ही रोशिनी में आएं, पर आती जरूर है। एक नए लेखक को विनर्म और सहनशील होना चाहिए। नए लेखक अपने भाव को अपने पुरे जज्बातों के साथ नहीं लिख पातें, जिससे उनकी बातों में कमी झलकती है। मैं इस लिए सभी नए लेखकों को सलाह देना चाहूंगा की वो कुछ भी लिखने से पहले, किताब लिखने के पीछे मकसद पर विचार जरूर करें।

भविष्य में आपकी क्या योजनाएं हैं?

आगे चलकर मेरा हर लेख पाठकों को खुश करने के लिए और उनकी इच्छा की दुनिया उन्हें दिखने के लिए होगा। मेरी आने वाली कहानियों के हर पाठ में पहले की तरह ही एक सीख होगी। कहानियां अब कुछ और उड़ान भरेंगी, कोशिश होगी की जीवन के सभी रंगों को में अपने शब्दों में उतार सकूं। आने वाली कहानियां भी पाठकों को वही ख़ुशी और जज्बात देंगी जो वो चाहते है एक कहानी से। मैं अपने मोटिवेशनल स्पीच कुछ और अच्छे टॉपिक के साथ दुनिया वालों के सामने लाऊंगा, जिससे जीवन के बदलते रंगों के साथ, लोगों के विचार भी बदल सकें।

 

Web Title: Through stories, I want to teach readers something: Aakash V Shivach

Tags: #Author Aakash V Shivach  #Steps Taking Backward #Miracle: An Exotic Wonder