क्रिकेट के मैदान के सबसे बड़े हादसे

Cricket Tragedy

आज विश्व भर में क्रिकेट विख्यात है और क्रिकेट को स्टेडियम में जाकर देखने का भी एक अपना ही अलग मज़ा है मगर बहुत बार स्टेडियम में मैच देखना लोगों को भारी पड़ जाता है बहुत बार ऐसा देखा गया है जब बल्लेबाज़ छक्के जड़ता है तो भीड़ में बैठे दर्शक उसको लपकने के लिए हाथ आगे बढ़ाते है और उनका यही हाथ आगे बढ़ाना कई बार उन्हें बुरी तरह चोटिल भी कर देता है जिससे कभी किसी के सिर में चोट या शरीर के किसी अभिन्न अंग को प्रभावित कर देती है। कभी-कभी लापरवाही भी मौत का सबब बन जाती है। इसीलिए सुरक्षा ही बचाव का एकमात्र रास्ता है। क्रिकेट जगत में ऐसी कई घटनाएं हुई है जिनसे दिल तक सहम जाता है। ऐसे कई अवसर आये है जब बल्लेबाज़ के साथ-साथ दर्शक भी मैदान के बाहर चोटिल हुए है। मैदान में चोट लगना किसी भी ख़िलाडी के लिए आम बात है लेकिन किसी की मौत हो जाये तो इससे दुखद बात इस संसार में कुछ भी नहीं हो सकती आइये आपको बताते है कि न केवल ग्राउंड में बल्कि ग्राउंड से बाहर बैठे दर्शक भी हुए है घायल।

फिलिप ह्यूज 

वो दिन पूरी दुनिया के लिए शोक पूर्ण व मायूसी से भरा दिन था जिस दिन फिलिप ह्यूज की मौत हुई। ह्यूज़ एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी थे और तीन दिन बाद उनका जन्मदिन भी था मगर किसे पता था कि एक गेंद उनकी जान तक ले लेगी। फिलिप ह्यूज की मौत सन 2014 में सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर तब हुई,जब वह 63 रन बनाकर खेल रहे थे इसी दौरान सीन एबोट की एक गेंद को वह हुक करने के लिए जैसे ही आगे बढ़े गेंद उनके सर के पीछे वाले हिस्से पर जाकर लगी और कुछ सेकंड तक खड़े रहने के बाद वे वही खड़े-खड़े मुँह के बल गिर गए, तुरतं एम्बुलेंस को बुलाया गया और ह्यूज़ को अस्पताल ले जाया गया जहाँ ब्रेन हैमरेज से ह्यूज़ की मौत हो गयी।

ज़ुबैर अहमद

क्रिकेट में चोटिल होना तो आम बात  है लेकिन एक गेंद किसी की जान ले ले ये सुनकर बहुत आश्चर्य होता है ऐसा ही हुआ जब पाकिस्तान अपना 70 वा गणतंत्र दिवस मन रहा था। मरदान मेंं घरेलू मैच के दौरान एक बाउंसर बाल केे सिर पर लगने से ज़ुबैर अहमद की मैदान पर ही मौत हो गई और इनकी मौत गेंद से नहीं बल्कि लापरवाही से हुई थी। ज़ुबैर अहमद ने हेलमेट नहीं पहना था जिसके चलते उनकी मौत हुई। इस युवा बल्लेबाज़ ने हेलमेट पहना होता तो शायद इसकी जान बच सकती थी लेकिन ऐसा नही हुआ और ज़ुबैर अहमद की मौत हो गई जो कि बहुत दुःखद है।

जब दर्शक हुआ चोटिल 

ऐसे मौके कई बार आये है जब मैदान के बाहर बैठे दर्शक भी हुए है चोटिल,कई बार तो चोट इतनी गंभीर होती है कि उनको तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ता है ऐसी ही घटना आपको बताते है जब 2002 में सचिन और गांगुली बैटिंग कर रहे थे इंग्लैड के खिलाफ एक टेस्ट मैच में, सौरव गांगुली ने एक छक्का मारा था जिसे एक दर्शक ने पकड़ने का प्रयास किया परंतु प्रयास असफल हो गया और गेंद सीधे सिर पर आकर लगी,और रक्त बहना शुरू हो गया,दर्शक के चोटिल होने बाद ही खेल को बंद कर दिया गया और चोटिल व्यक्ति को उसी समय अस्पताल ले जाया गया।

बॉल लगने से अम्पायर की हुई मौत

मैदान पर अम्पायर की मौत की यह पहली घटना है। ख़िलाडी नहीं,दर्शक भी नहीं बल्कि अम्पायर की भी बॉल लगने से हो चुकी है मौत। इंग्लैंड में हुई इस दुर्घटना में अम्पायर की जान चली गई, 72 साल के एल्विन जेन्किंग्स क्लब मैच में कर रहे थे अंपायरिंग। हादसा उस वक्त हुआ जब एक बल्लेबाज़ ने शाट खेला और फील्डर ने थ्रो मारा तो बॉल सीधे अम्पायर के सिर पर जाकर लगी जिससे अम्पायर की मौके पर ही मौत हो गई।

क्रिस गेल

आज शायद ही कोई क्रिकेट प्रेमी होगा जो इस महान बल्लेबाज क्रिस गेल को ना जानता हो। गेल जब मैदान में आते है तो छक्को की बरसात हो जाती है और दर्शक भी इसका खूब लुत्फ उठाते है। हारे हुए मैचों को कैसे जिताया जाता है ये गेल बखूबी जानते है लेकिन इनके छक्कों में इतना शक्ति होती है कि वह किसी की भी शरीर को बुरी तरह क्षति पहुँचा सकती है। ऐसी ही एक घटना बेंगलुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम में हुई, उस मैच में क्रिस गेल ने कई छक्के मारे लेकिन संयोग से एक छक्का दर्शक में बैठी एक 11 साल की लड़की टीना भाटिया के नाक पर जाकर लगी और बॉल लगने के पश्चात उसे तुरंत माल्या हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसका इलाज किया और फिर क्रिस गेल भी उस लड़की से मिलने पहुँचे और वहाँ पहुँचकर उस लड़की से माफी मांगी और अपना एक मैडल भी उस लड़की को दे दिया जो उन्हें सबसे ज्यादा छक्के मारने के लिए दिया गया था।

डेविड वार्नर

साल 2015 विश्व कप में अफ़ग़ानिस्तान के खिलाफ एक मैच में डेविड वार्नर ने छक्का मारा, जिस गेंद पर वार्नर ने छक्का मारा वह गेंद सीधे जाकर एक 4 साल के बच्चे के बाजू पर लगी और आश्चर्य तो तब हुआ कि उस बच्चे की आंख से एक बूंद आंसू भी नहीं निकले, उस बच्चे को अस्पताल ले जाया गया जहाँ उसके बाजू पर पलास्टर चढ़ाया गया। उसकी आंख से एक आंसू भी नहीं टपका ये देख डेविड वार्नर भावुक हुए और अपने दस्ताने देकर उस बच्चे से माफी मांगी।

संबंधित खबरें