लेट्स फुटबॉल: क्या आप जानते है फुटबॉल से जुड़ी यह बातें?

वर्तमान में फुटबॉल खेल की प्रासंगिकता अपने चर्मोत्कर्ष पर पहुंच चुकी है। फ़ुटबॉल पूरे विश्व का सबसे प्रसिद्ध व प्रचलित खेल है। इस खेल के प्रति जो जोश युवाओं में देखने को मिलता है वो उल्लेखनीय है।

फुटबाल का इतिहास

फुटबाल शब्द की उत्पत्ति के पीछे विभिन्न लोगो के भिन्न भिन्न मत है और कहा यह भी जाता है कि पैर से मारने के कारण इसे फ़ुटबॉल कहा जाने लगा, लेकिन सच्चाई का पता आज तक किसी को भी नही है। फीफा के अनुसार फुटबाल खेल एक चीनी खेल सुजू का ही विकसित रूप है। इसी खेल को जापान में असुका वंश के शाशन काल में केमरी के नाम से खेला जा रहा था। 15वीं शताब्दी में फुटबॉल नाम का खेल स्कॉट्लैंड मे खेला जा रहा था। जहा इसे बैन कर दिया गया, परंतु बैन जल्दी हटा दिया गया था लेकिन तब तक लोगों की रुचि फुटबाल से खत्म हो चुकी थी। इसी पश्चात 19वीं शताब्दी में फिर फ़ुटबॉल देखने को मिलता है।

ब्रिटेन के राजकुमार हेनरी चतुर्थ ने पहली बार कहा था फुटबॉल

ब्रिटेन के राजकुमार हेनरी चतुर्थ ने 1409 ईसवी में पहली बार फुटबॉल शब्द का प्रयोग किया तब से अब तक यह फुटबॉल पूरे विश्व भर में अपनी पहचान बना चुका है। उसके बाद 20वीं शताब्दी में इस खेल को एक ऐसी संस्था की जरूरत थी जो इसे सुचारू रूप से चला सके। इंग्लिश फुटबाल एसोसिएशन की तरफ से कई मीटिंग आयोजित हुई ताकि अंतराष्ट्रीय संस्था का उद्भव हो सके। इसी पश्चात सात देशों का उद्भव हुआ जो कि यूरोप से थे। जिनमें नीदरलैंड, फ्रांस, स्विट्जरलैंड, स्वीडन, डेनमार्क, स्पेन, बेल्जियम ने मिलकर 21 मई 1904 को फेडरेशन इंटरनेशनल ऑफ़ फुटबॉल एसोसिएशन फीफा की स्थापना करी जिसके पहले अध्यक्ष रॉबर्ट गुएरीन थे।

फुटबॉल के नियम

फुटबाल का एक मैच 90 मिनट का होता है जिसे दो हाफ (45-45) मिनट के अंतराल में खेल जाता है। पहले 45 मिनट के खेल के बाद 15 मिनट का हाफ टाइम होता है और फिर दोबारा 45 मिनट का मैच शुरू होता हैcअगर 90 मिनट के अंतराल में मैच का कोई निर्णय नहीं निकलता तो मैच को 30 मिनट के लिए रेफरी द्वारा बढाया जा सकता है जिसे दो हाफ 15-15 मिनट के लिए खेला जाता है। इस खेल में एक टीम में 11 खिलाड़ी होते है जिसमें से एक गोलकीपर होता है और केवल गोलकीपर को ही गेंद हाथ से पकड़ने की इजाज़त होती है। मैदान पर घास कृत्रिम या प्राकृतिक रूप से बनी होनी चाहिए और मैदान आयताकार रूप में होना चाहिए। इनमें दो छह यार्ड बॉक्स दो 18 यार्ड बॉक्स और एक केंद्र सर्कल होता है।12 यार्ड की दूरी जुर्माने के लिए होनी चाहिए। फुटबॉल के प्रत्येक मैच में एक रेफरी और दो सहायक रेफरी होते है और ज़रूरत पड़ने पर वह अपने सहायक रेफरी से परामर्श भी कर सकते है।

कैसे होती है फुटबॉल मैच की शुरुआत

फुटबॉल मैच की शुरुआत किक ऑफ से होती हैैैै। 90 मिनट के बाद लिए गए अतिरिक्त 30 मिनट में अगर नतीजा न आये तो पेनल्टी शूटआउट किया जाता है। इस खेल में 7 अतिरिक्त खिलाड़ियों का नाम दर्ज करवा सकते है ताकि खेल रहे खिलाड़ियों की जगह वे आ सके, परंतु खेल के दौरान मैदान पर हमेशा 11 खिलाड़ी ही होते है।

क्या है पीला कार्ड?

अगर खिलाड़ी मैदान में किसी प्रकार का गलत काम या गलत व्यवहार करता है तो रेफरी उसे पीला कार्ड दिखाकर या तो चेतावनी दे सकता है या बाहर का रास्ता भी दिखा सकता है।
खेल के दौरान दूसरी बार पीला कार्ड मिलना ही रेड कार्ड है रेड कार्ड का अर्थ खिलाड़ी को मैदान से बाहर जाना होता है।

क्या है थ्रो इन?

यदि बॉल दोनो तरफ किसी भी प्रतिद्वंद्वी से बाहर चली जाती है तो इसे थ्रो इन कहा जाता है जिसमें विरोधी टीम बॉल को सर के ऊपर से फेकती है लेकिन इसमे सीधे गोल नहीं किया जा सकता, बॉल फेकने के उपरांत किसी एक खिलाड़ी को बॉल छूना आवश्यक है।

क्या है गोल किक?

अगर कोई गेंद बेस लाइन पर हमला करने वाले खिलाड़ी से बाहर हो जाती है तो यह गोल किक मानी जायेगी।

कैसा होता है मैदान?

मैदान की लंबाई 90 मीटर से 120 मीटर के बीच होनी चाहिए। मैदान की चौड़ाई 45 मीटर से कम नहीं होनी चाहिए और 90 मीटर से ज्यादा नही होनी चाहिए।

क्या होता है पेनल्टी एरिया?

पेनल्टी एरिया को दंड बॉक्स या जुर्माना क्षेत्र के रूप में भी जाना जाता है। यह फुटबॉल मैदान का वह क्षेत्र है जो कि आयताकार है। गोल के दोनों तरफ़ 16.5 मीटर(18 यार्ड) और गोल के सामने 16.5 (18 यार्ड) तक कि दूरी पर होता है। अगर कोई टीम फ़ाउल करती है तो सजा के रूप में उसे पेनल्टी दी जाती है

क्या है ड्रॉप्ड बॉल?

ड्रॉप्ड बॉल खेल को दोबारा शुरू करने का एक तरीका है खिलाड़ी के अनुचित या गलत व्यवहार के चलते रेफरी खेल को रोक देता है और इसका लाभ किसी को भी न मिले इसीलिए रेफरी बॉल को खुद ही छोड़ता है।

संबंधित खबरें