अंतरराष्ट्रीय कंडोम दिवस: फैशन आता और जाता है लेकिन कंडोम हमेशा रहता है…

Condoms are “Always in Fashion”, says AHF India on 10th Edition of International Condom Day

नई दिल्ली: 14 फरवरी को पुरे विश्व में वैलेंटाइन डे के तौर पर मनाया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि 14 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय कंडोम दिवस के तौर पर भी मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय कंडोम दिवस से 1 दिन पूर्व एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन ने ‘ऑलवेज इन फैशन’ थीम के साथ अंतरराष्ट्रीय कंडोम दिवस के 10वें संस्करण का आयोजन किया। इसके पीछे विचार लगातार कंडोम के उपयोग के जरिये एचआईवी, एसटीआई और अनचाहे गर्भ की रोकथाम के प्रति जागरूकता पैदा करना है।

आईसीडी सुरक्षित सेक्स जागरूकता को एक मजेदार और रचनात्ममक ढंग से बढ़ावा देता है और लोगों को कंडोम का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है। दुनिया में 3.67 करोड़ लोग एचआईवी और यौनरूप से संक्रामित संक्रमण से ग्रसित हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ रही है, ऐसे में लोगों को जागरूक और शिक्षित करना पहले की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। आज के दौर में कंडोम मैसेजिंग महत्वपूर्ण है क्योंकि फैशन के साथ-साथ हमारे समाज में यौन इच्छा भी हमेशा बदलते ट्रेंड की तरह है। पारंपरिक यौन गतिविधियों से आगे बढ़ते हुए हम चेमसेक्स और बिना सुरक्षा वाले युग में हैं, जो भारत के ग्रामीण समुदायों में भी एक फैशन स्टेटमेंट बन रहा है।

यह भी पढ़ें: इंजेक्शन से ड्रग्स लेने वाले लोगों में एचआईवी संक्रमण का जोखिम ज्यादा

‘ऑलवेज इन फैशन’ थीम बताती है कि ‘फैशन आता और जाता है लेकिन कंडोम हमेशा रहता है’ और ये हमारे समाज में कंडोम के निरंतर प्रचार की आवश्यकता को दर्शाता है। ‘ऑलवेज इन फैशन’ थीम को कंडोम के साथ ‘लाल लिपस्टिक’, ‘लाल बूट’ और ‘एविएटर-सन ग्लास’ के कटआउट के रूप में सेल्फी बूथ पर प्रदर्शित किया गया था ताकि ये युवाओं को इसके साथ सेल्फी लेने और उन्हें सोशल मीडिया पर शेयर करने के लिए आकर्षित करें।

नई दिल्ली के सेंट्रल पार्क में सार्वजनिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यहाँ एक 40 फीट का हवा भरा हुआ कंडोम सेंट्रल पार्क में लगाया गया था और कंडोम का उपयोग करने के संदेश के साथ लोगों ने इसपर अपने हस्ताक्षर किए। इस कार्यक्रम में एक एचआईवी परीक्षण कैम्प के अलावा अभियान को समर्थन करने के लिए छात्रों द्वारा बैंड प्रस्तु्ति, फ्लैश मॉब, फ्लैश रैम्प वॉक का भी आयोजन किया गया। एशियन स्कूल ऑफ मीडिया स्टडीज के फैशन डिजाइनिंग डिपार्टमेंट के फैशन डिजाइनर्स छात्रों द्वारा कंडोम से बनाए गए वस्त्रों, डिजाइन एवं एसेसरीज का प्रदर्शन किया गया। यहाँ सबसे बेहतरीन डिजाइन को पुरस्कार प्रदान किया गया और उसे सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए “कंडोम फैशन गैलरी” में रखा गया।

ऑस्कर फर्नांडेस, सांसद, राज्य सभा ने कहा, “लोगों में विशेषकर युवा पीढ़ी के बीच कंडोम के प्रति जागरूकता फैलाना महत्वपूर्ण है। उन्हें यह बताने की जरूरत है कि कंडोम का सही और हमेशा इस्तेमाल एचआईवी और एसटीआई को रोकने का सुरक्षित और सबसे प्रभावी रास्ता है। कंडोम और उसके उपयोग से जुड़ें यहां कई मिथक हैं, इसलिए यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम सही जानकारी उपलब्ध कराएं और पूरे देश में कंडोम की उपलब्धता को सुनिश्चित करें। मैं एचआईवी की रोकथाम और देखभाल में सरकार के प्रयासों के साथ एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन द्वारा किए जा रहे कामों की सराहना करता हूँ।”

डॉ. वी सैम प्रसाद, कंट्री प्रोग्राम डायरेक्टर, एड्स हेल्थकेयर फाउंडेशन इंडिया, ने कहा, “आज भी भारत में कंडोम पर कलंक बहुत अधिक है इसके लिए सांस्कृतिक और धार्मिक भावनाओं को दोष दिया जाता है और मिथक यह है कि, “कंडोम की लोकप्रियता से आम जनता के बीच संकीर्णता बढ़ती है”। लेकिन सच्चाई यह है कि कंडोम पर चर्चा और मास मीडिया जागरूकता अभियान लोगों के बीच खतरे के प्रति संवेदना को बढ़ाते हैं और इस बात पर महत्व देते हैं कि एसटीआई, एचआईवी और अनचाहे गर्भ की रोकथाम के लिए कंडोम बेहतर सुरक्षा उपकरण है।”

 

Web Title: Condoms are “Always in Fashion”, says AHF India on 10th Edition of International Condom Day

Tags: #International Condom Day #HIV AIDS #AIDS Healthcare Foundation #Condoms #Always in Fashion

संबंधित खबरें